सोमवार, 18 जून 2012

न जाने क्यों,,,,,


न जाने क्यों,

जानकर भी, कि
गुजर रहा हूँ,
अनजान राहों में मै!
न जाने क्यों-
खुद से अनजान
बन जाता हूँ,मै
सोचता हूँ कि-
एक अलग
पहचान बनाऊ
इस दुनिया में मै-
मगर,जब जाता हूँ
दुनिया की उस भीड़ में
न जाने क्यों-?
खुद अपनी पहचान.
भूल जाता हूँ मै!


dheerendra,"dheer"

30 टिप्‍पणियां:

  1. भूल जाना भी कभी कभी मुश्किल हो जाता है
    जो भूल पाता है वाकई में बहुत कुछ पा जाता है।

    लाजवाब !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. असली समस्या अपनी पहचान के भूलने की है। उसका ध्यान रहे,तो भीड़ भी साथ देगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यही तो त्रासदी है हमारे वक्त की बिना आई डी के घूमते हैं हम लोग .बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर भाव ...
    अच्छी रचना ..शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुनिया की उस भीड़ में
    न जाने क्यों-?
    खुद अपनी पहचान.
    भूल जाता हूँ मै!


    भावनाओं का बहुत सुंदर चित्रण ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहचान तो फिर भी बनानी ही होगी... अन्ततोगत्वा...

    कोशिश करते रहें...

    अच्छी प्रस्तुति।

    -हेमन्त

    उत्तर देंहटाएं
  7. ....न जाने ये क्या हो गया, की सब कुछ लागे नया-नया.... ......... सुंदर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. .......खुद अपनी पहचान भूल जाता हूँ मै....

    वाह ! बहुत खूब ... बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  9. फिर भाई साहब भीड़ का अपना कोई चेहरा भी तो नहीं होता .पर हुआ क्या चेहरे का मेरे अपने .

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  11. भावों की सुंदर अभिव्यक्ति ..
    सुंदर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. मगर,जब जाता हूँ
    दुनिया की उस भीड़ में
    न जाने क्यों-?
    खुद अपनी पहचान.
    भूल जाता हूँ मै!

    बहुत सुंदर ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. kyonki apni pahchan hamesha bheed se juda honi chahiye....isiliye bheed me khud ki pahchan bhul jate hain .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक अलग पहचान के लिए आदमी अपनी खुद की ही पहचान खो देता है.....!
    सुन्दर प्रेअर्नादायक रचना...!!

    उत्तर देंहटाएं