शनिवार, 17 मार्च 2012

रिश्वत लिए वगैर....

रिश्वत लिए वगैर...

कविता नही सुनेगें,अब लिये दिये वगैर,
हम दाद नही देगें,कुछ खाए पिए वगैर!

श्रोता विहीन मंच को श्री हीन समझिए,
त्यौहार मुहर्रम हो,जैसे ताजिऐ बगैर!

क्या क्या हुआ आज तक कविता के नाम पर
गजलें नही चलेंगी अब काफिऐ बगैर!

उत्तर की प्रतीक्षा में है एक प्रश्न यह भी
कवि क्यों नही सुनते कविता,पिए बगैर!

जीवन के हर क्षेत्र में रिश्वत है जरूरी
श्रोता ही फिर सहे क्यों "धीर"रिश्वत लिये बगैर!

DHEERENDRA,"dheer"

34 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर....................
    आपको टिप्पणी रूपी रिश्वत भेंट कर रहा हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लोगर करेंगे टिपण्णी रिश्वत लिए बगैर .

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता नही सुनेगें,अब लिये दिये वगैर,
    हम दाद नही देगें,कुछ खाए पिए वगैर!

    भाई साहब!
    आपने राह दिखा ही दी है। अब टिप्पणी ......
    !!!
    ??? (समझे)

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिश्वत नस-नस में बहे, बेबस "धीर" शरीर ।
    श्रोता-पाठक एक से, प्यासे छोड़ें तीर ।

    प्यासे छोड़ें तीर, तीर सब कवि के सहता ।
    विषय बड़ा गंभीर, कभी न कुछ भी कहता ।

    जाए टिप्पण छोड़, वाह री उसकी किस्मत ।
    चाहे बांह मरोड़, धरो पहले कुछ रिश्वत ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिना दिए तो टीप भी नहीं मिलती...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 19-03-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ॥ रिश्वत ... पर तगड़ा व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    हर तरफ़ रिश्वत ही रिश्वत...वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. :):) बढ़िया .... हर जगह रिश्वत का बोलबाला है

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या लेनेदेने का प्रभाव कविता में भी आगया |कविता बहुत अच्छी लगी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  11. Tiipani pahle vali nahin dikhi

    रिश्वत-मद नस-नस बहे, बेबस "धीर" शरीर ।
    श्रोता-पाठक एक से, प्यासे छोड़ें तीर ।
    प्यासे छोड़ें तीर, तीर सब कवि के सहता ।
    विषय बड़ा गंभीर, कभी न कुछ भी कहता ।
    जाए टिप्पण छोड़, वाह री उसकी किस्मत ।
    चाहे बांह मरोड़, धरो पहले कुछ रिश्वत ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. :-))
    ये सामजिक बुराई
    ब्लॉग पर भी छाई.......

    सर याद रखियेगा हमारी बिना नागा टिप्पणियों को.....
    :-)
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. नहीं हम कोई रिश्वत नहीं देंगें :)बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    कमाल की ग़ज़ल...बेहतरीन लेखन ..बधाई स्वीकारें



    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  15. जीवन के हर क्षेत्र में रिश्वत है जरूरी
    श्रोता ही फिर सहे क्यों "धीर"रिश्वत लिये बगैर!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  16. ....बहुत सुन्दर और भावमयी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविता नही सुनेगें,अब लिये दिये वगैर,
    हम दाद नही देगें,कुछ खाए पिए वगैर.

    मजेदार !, क्या बात कही धीरेन्द्र जी,... हम भी नहीं देंगे...

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह बहुत खूब ! इस हाथ दे ...उस हाथ ले !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैंने टिप्पणी आकर दी ..देखिये रिश्वत लिए बगैर.
    अच्छी रचना ..मजेदार रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. कल 26/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति, इस रचना के लिए आभार " सवाई सिंह "

    उत्तर देंहटाएं
  22. हम टिप्पणी भी क्यों दें
    रिश्वत लिए वगैर !

    खाली पीली शुभकामनायें :-))

    उत्तर देंहटाएं
  23. जय हो आपकी.
    क्या खूब लिखतें हैं आप.
    आपका निराला अंदाज दिल चूरा लेता है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. Good day! I simply want to offer you a huge thumbs up for the
    great information you've got here on this post. I will be returning to your site for more soon.
    Also visit my web page - webpage

    उत्तर देंहटाएं