बुधवार, 6 फ़रवरी 2013

उपदेश और प्रभाव,



गीता में श्रीकृष्ण का
अर्जुन को उपदेश
आत्मा,अजर-अमर है-
प्राणी मरता नही है,
केवल चोला बदलता है,
पुराने चोले को छोड़कर
नये चोले में प्रवेश करता है,
व्याख्यान सुनकर,
वाहन चालको ने 
लापरवाही कर
दुर्घटनाओं की झड़ी लगा दी,
अभियोग लगने पर दलील दी-
हमने कोई जुर्म नही किया!
चोले बदलने की,
प्रक्रिया में मदद ही की....

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया.....

52 टिप्‍पणियां:

  1. अदभुत--बहुत सुंदर
    बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही व्यंगात्मक प्रस्तुती,बहुत ही सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह...सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  4. अद्भुत , अति उत्तम हर शब्द - शब्द में अंतर मन का समावेश बहुत खूब
    मेरी नई रचना
    खुशबू
    प्रेमविरह

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह जी वाह बहुत सुन्दर.
    नीरज'नीर'
    कव्य्सुधा

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह क्या बात है। सही है सर जी!

    जवाब देंहटाएं
  7. अधुरा ज्ञान ,भगवान बन
    लिया कई जान !!

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर!शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    जवाब देंहटाएं
  10. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    जवाब देंहटाएं
  11. क्या बात है व्यंग्य की सभी सीमाओं के पार निकल आये आप .

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुद्नर आभार आपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

    जवाब देंहटाएं
  13. भगवान बुद्ध ने इसीलिये कहा है कि कहने वाला कुछ भी कहना चाह रहा हो, पर सामने वाला समझता अपने हिसाब से ही है. बहुत बेहतरीन व्यंग किया आपने, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  14. very nice ...kudos!!!!

    plz . visit http://swapnilsaundarya.blogspot.in
    www.swapniljewels.blogspot.com
    www.swapnilsworldofwords.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  15. अत्यंत तिखा व्यंग्य। वाहन वालक सच में यमदूत है। लाफरवाही और बेहया की मर्यादाएं लांघी जाती है। सफल मिथकीय प्रयोग के साथ सार्थक कविता।
    drvtshinde.biogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  16. वाह! लाजवाब लिखा आपने | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    जवाब देंहटाएं
  17. सर्वोत्त्कृष्ट, अत्युत्तम लेख आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत बेहतरीन व्यंग किया आपने
    शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  19. लाजवाब !!!

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    जवाब देंहटाएं
  20. कब शब्दों में सटीक बात कहने का सुन्दर अंदाज़ |
    सार्थक रचना |

    जवाब देंहटाएं
  21. बहुत खूबसूरत ,लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  22. अजी सृष्टि चक्र में ऐसा ही लिखा होगा आपकी मत मारी जायेगी .या फिर आप पुरानी दुनिया की सफाई में मददगार रहे हैं .ॐ शान्ति .

    जवाब देंहटाएं
  23. सुंदर अभिव्यक्ति....आज के लोग बतंगड़ बनाने में माहिर हैं ही

    जवाब देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    जवाब देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर रचना...सीधे दिल को छू लेती है..

    जवाब देंहटाएं
  26. वाह बढ़िया व्यंग ... :) असली उपदेश उन्होंने ही पढ़ा

    जवाब देंहटाएं
  27. वाह बढ़िया व्यंग ... :) असली उपदेश उन्होंने ही पढ़ा

    जवाब देंहटाएं
  28. जबरदस्त व्यंग्य ...विचारणीय ..सब अपने ढंग से ही विवेचना कर जाते हैं
    भ्रमर ५

    जवाब देंहटाएं
  29. बहुत अच्छा....
    http://savanxxx.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं